सुमित बजाज, सिद्धार्थ नगर गोरे गाँव (पश्चिम) से बरसात के दिनों में सड़कों की दुर्दशा के बारे में शिकायत करते हुए महानगरपालिका के अध्यक्ष को शिकायती पत्र लिखता है।

औपचारिक पत्र

महानगर पालिका अध्यक्ष को पत्र

दिनाँक – 15 मई 2024

 

सेवा में,
महापौर,
महानगर पालिका,
मुंबई, महाराष्ट्र ।

विषय : बरसात के कारण हुई क्षेत्र की दुर्दशा के बारे में ।

महोदय,

मैं सुमित बजाज, सिद्धार्थ नगर, गोरेगाँव (पश्चिम), मुंबई का स्थायी निवासी हूँ। महोदय, इस पत्र के माध्यम से मैं आपको इस बार भारी बरसात के कारण हुई तबाही के बारे में अवगत करवाना चाहता हूँ।

जैसा कि आप जानते हैं कि इस बार बरसात पिछले साल के मुक़ाबले बहुत ज्यादा हुई है और इस बार जान-माल का नुकसान भी बहुत हुआ है। वैसे तो बरसात के पहले महानगर नगरपालिका अधिकारी ताल ठोक कर कह रहे थे कि इस बार बरसात से नुकसान से बचने के लिए सभी इंतजाम कर लिए गए हैं और इस बार मुंबई वासियों को कोई परेशानी नहीं होगी लेकिन बरसात आते ही सारे दावे खोखले नज़र आते दिख रहे हैं।

हमारे गोरेगाँव में नालों में पानी भर गया है और अब यही गंदा पानी वहाँ के घरों और बस्तियों में भी भरने लगा है और इस कारण हमारे क्षेत्र के लोगों का यहाँ रहना बहुत मुश्किल हो गया है।

गंदा पानी इकट्ठा होने के कारण अब यहाँ पर मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियाँ भी पनपने लगी हैं और अभी तक 10-15 लोग इन बीमारियों के शिकार हो चुके हैं।

गोरेगाँव में वृद्धाश्रम की बिल्डिंग के ढांचे को भी बहुत नुकसान पहुंचा है और यह बिल्डिंग अब रहने के लायक नहीं है क्योंकि कभी भी यहाँ की पुरानी दीवारें गिर सकती हैं। अगर सड़कों की बात करें तो इतने बड़े-बड़े गड्ढे सड़कों में हो गए हैं कि कोई भी इन में गिर कर अपनी जान गंवा सकता है।

कई जगह तो भूस्खलन के कारण सड़क अपनी जगह से अपदस्थ हो गयी है और एक जगह से दूसरी जगह के लिए आवाजाही भी बुरी तरह बाधित हो गयी है। हमने इस बाबत पहले भी कई बार इस परेशानी के बारे में महानगर पालिका के अधिकारियों को बताया था, लेकिन किसी के कान में जूं तक नहीं रेंगी।

इसलिए आप से अनुरोध है कि कृपया यह सारी बातें अपने संज्ञान में लें और गोरेगाँव की इस व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए आवश्यक कार्यवाही करने की कृपा करें ताकि यहाँ रहने वाले एक सामान्य जीवन जी सकें और अगर पाँच दिनों के भीतर इस मुद्दे पर कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया तो मजबूरन हमें जन आंदोलन करना पड़ेगा और उसके ज़िम्मेवार महानगर पालिका के अधिकारी होंगे।

धन्यवाद।


Related questions

सार्वजनिक गणेशोत्सव के समय 24 घंटे ऊँची आवाज में लाउडस्पीकर बजने के कारण पुणे में रहने वाले अजय/अनीता के अध्ययन में बाधा पड़ती है। इस संदर्भ में वह शहर कोतवाल, शहर विभाग, पुणे को एक शिकायत पत्र लिखता/लिखती है।

आप दिल्ली के निवासी हैं। आप नगर निगम के सफाई कर्मचारियों की शिकायत करते हुए प्रशासनिक अधिकारी को एक पत्र लिखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *