समाचार पत्र का महत्व समझाते हुए अनुज तथा अग्रज में हुआ संवाद लिखो।

संवाद

अनुज तथा अग्रज के बीच समाचार पत्र के महत्व पर संवाद

 

अग्रज ⦂ (छोटे भाई के सर पर हाथ फेरते हुए) प्रिय अनुज ! क्या कर रहे हो ?

अनुज ⦂ (बड़े ही आदर के साथ) नमस्ते ! बड़े भाई , बस पढ़ाई कर रहा हूँ ।

अग्रज ⦂ शाबाश ! मुझे बहुत खुशी है कि तुम बहुत मेहनत कर रहे हो ।

अनुज ⦂ जी भाई , मुझे बारहवीं कक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने है ताकि मुझे मेडिकल कॉलेज में दाखिला मिल जाए ।

अग्रज ⦂ क्या तुम जानते हो कि आपको बारहवीं कक्षा के बाद अगर किसी भी कॉलेज में दाखिला लेना है तो आपको उसके लिए प्रतियोगी परीक्षा में पास होना होगा ।प्रतियोगी परीक्षाओं में सामान्य ज्ञान से जुडे सवाल पूछे जाते हैं जिसकी जानकारी होना बहुत ही आवश्यक है जो तुम्हें सिर्फ किताबों से प्राप्त नहीं हो सकती।

अनुज ⦂ तो फिर मैं यह सामान्य ज्ञान की जानकारी कहाँ से प्राप्त कर सकता हूँ ?

अग्रज ⦂ सामान्य ज्ञान की जानकारी पाने का सबसे आसान तरीका है समाचार पत्र क्योंकि समाचार पत्रों में सामाजिक मुद्दों, अभिनेताओं, दवाइयों, शिक्षा, विज्ञान, अंतर्राष्ट्रीय समाचार, मेलों, त्योहारों आदि की जानकारी हमें देता है और प्रतियोगी परीक्षाओं में जो सवाल पूछे जाते हैं वह इन्हीं विषयों पर होते है।

अनुज ⦂ (उत्सुकता के साथ) भाई , तो मैं यह समाचार पत्र कहाँ से प्राप्त कर सकता हूँ और इसकी कितनी कीमत है ?

अग्रज ⦂ यह बाज़ार में लगभग सभी भाषाओं में उपलब्ध है। यह हमें खेल,नीतियों धर्म अर्थव्यवस्था, फिल्म उद्योग, रोजगार आदि की सटीक जानकारी देता है।

अनुज ⦂ ठीक है बड़े भाई मैं अब हर रोज़ समाचार पत्र पढूंगा।


Related questions

वर्षा ऋतु और ग्रीष्म ऋतु को मानव-रूप देकर उनके बीच कल्पित वार्तालाप को संवाद रूप में ​लिखिए।

घर में चोरी के बाद पुलिस अफसर और पीड़ित महिला के बीच में संवाद लिखिए​।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *