बड़े भाई साहब का रौब-दाब क्यों खत्म हो गया?

बड़े भाई साहब का रौब-दाब खत्म इसलिए हो गया था क्योंकि सालाना इम्तिहान में बड़े भाई साहब फेल हो गए और छोटा भाई यानि लेखक पास हो गया और अपने दर्जे में प्रथम आया था।

छोटे भाई के पास होने जाने और बड़े भाई साहब के फेल हो जाने के कारण छोटे भाई और बड़े भाई साहब दोनों के बीच 2 साल का कक्षा अंतर रह गया था। अब बड़े भाई साहब थोड़ा नरम पड़ गए थे और छोटे भाई को पहले की तरह नहीं डाँटते थे, लेकिन वे दुखी और उदास रहने लगे थे। अब छोटे भाई को बड़े भाई साहब का इतना अधिक डर नहीं रह गया था, इसीलिए उनका रौब-दाब खत्म हो गया था। वह ज्यादा आजादी से खेलने कूदने लगा था और उसने सोचा था कि बड़े भाई साहब अगर उसे टोकेंगे तो वह उसे साफ कह देगा कि आपने कौन सा तीर मार दिया। इतनी मेहनत करने के बाद भी आप फेल हो गए जबकि मैं पहले दर्जे में पास हुआ।

संदर्भ : (‘बड़े भाई साहब’ पाठ, मुंशी प्रेमचंद, कक्षा – 10, पाठ -10)


Other questions

बड़े भाई साहब पाठ के आधार पर दादा जी द्वारा भेजा जाने वाला खर्चा कितने दिन चलता था?

प्रेमचंद’ की कहानी ‘बड़े घर की बेटी’ में आनंदी ने विवाद होने पर घर टूटने से कैसे बचाया?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *