Home All Posts Hindi रचना के आधार पर दिए वाक्यों के भेद लिखिए। 1. एक जमाना था कि लोग आठवां दर्जा पास करके नायब तहसीलदार हो जाते थे। 2. खिड़की के बाहर अब दोनों कबूतर रात भर खामोश हो उदास बैठे रहते थे। 3. चाय पीने की यह एक विधि है जिसे चा-नो-यू कहते हैं। 4. जिस रास्ते से मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी। 5. जो जितना बड़ा होता है उसे उतना ही कम गुस्सा आता है। 6. सालाना इम्तिहान में मैं पास हो गया और दर्जे में प्रथम आया। 7. पढ़ाई और खेलकूद साथ-साथ चल सकते हैं। 8. हरिहर काका के प्रति मेरी आसक्ति के अनेक व्यावहारिक और वैचारिक कारण हैं। 9. संसार की रचना कैसे भी हुई हो लेकिन धरती किसी एक की नहीं है। 10. मेरे जीवन में यह पहली बार है कि मैं इस तरह विचलित हुआ हूँ। 11. वह सफल खिलाड़ी है इसलिए उसका कोई निशाना खाली नहीं जाता। 12. उसका कोई निशाना खाली नहीं जाता क्योंकि वह एक सफल खिलाड़ी है। 13. ज्योंहि सभा समाप्त हुई त्योंहि सब लोग विवाद करने लगे। 14. क्योंकि वह इंस्पेक्टर ईमानदार है इसलिए उसे पुरस्कार मिला। 15. धर्मतल्ले के मोड़ पर आकर जुलूस टूट गया।

रचना के आधार पर दिए वाक्यों के भेद लिखिए। 1. एक जमाना था कि लोग आठवां दर्जा पास करके नायब तहसीलदार हो जाते थे। 2. खिड़की के बाहर अब दोनों कबूतर रात भर खामोश हो उदास बैठे रहते थे। 3. चाय पीने की यह एक विधि है जिसे चा-नो-यू कहते हैं। 4. जिस रास्ते से मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी। 5. जो जितना बड़ा होता है उसे उतना ही कम गुस्सा आता है। 6. सालाना इम्तिहान में मैं पास हो गया और दर्जे में प्रथम आया। 7. पढ़ाई और खेलकूद साथ-साथ चल सकते हैं। 8. हरिहर काका के प्रति मेरी आसक्ति के अनेक व्यावहारिक और वैचारिक कारण हैं। 9. संसार की रचना कैसे भी हुई हो लेकिन धरती किसी एक की नहीं है। 10. मेरे जीवन में यह पहली बार है कि मैं इस तरह विचलित हुआ हूँ। 11. वह सफल खिलाड़ी है इसलिए उसका कोई निशाना खाली नहीं जाता। 12. उसका कोई निशाना खाली नहीं जाता क्योंकि वह एक सफल खिलाड़ी है। 13. ज्योंहि सभा समाप्त हुई त्योंहि सब लोग विवाद करने लगे। 14. क्योंकि वह इंस्पेक्टर ईमानदार है इसलिए उसे पुरस्कार मिला। 15. धर्मतल्ले के मोड़ पर आकर जुलूस टूट गया।

दिए गए वाक्यों के रचना के आधार पर वाक्य भेद

1. एक जमाना था कि लोग आठवां दर्जा पास करके नायब तहसीलदार हो जाते थे।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

2. खिड़की के बाहर अब दोनों कबूतर रात भर खामोश हो उदास बैठे रहते थे।
वाक्य भेद : सरल वाक्य

3. चाय पीने की यह एक विधि है जिसे चा-नो-यू कहते हैं।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

4. जिस रास्ते से मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

5. जो जितना बड़ा होता है उसे उतना ही कम गुस्सा आता है।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

6. सालाना इम्तिहान में मैं पास हो गया और दर्जे में प्रथम आया।
वाक्य भेद : संयुक्त वाक्य

7. पढ़ाई और खेलकूद साथ-साथ चल सकते हैं।
वाक्य भेद : सरल वाक्य

8. हरिहर काका के प्रति मेरी आसक्ति के अनेक व्यावहारिक और वैचारिक कारण हैं।
वाक्य भेद : सरल वाक्य

9. संसार की रचना कैसे भी हुई हो लेकिन धरती किसी एक की नहीं है।
वाक्य भेद : संयुक्त वाक्य

10. मेरे जीवन में यह पहली बार है कि मैं इस तरह विचलित हुआ हूँ।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

11. वह सफल खिलाड़ी है इसलिए उसका कोई निशाना खाली नहीं जाता।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

12. उसका कोई निशाना खाली नहीं जाता क्योंकि वह एक सफल खिलाड़ी है।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

13. ज्योंहि सभा समाप्त हुई त्योंहि सब लोग विवाद करने लगे।
वाक्य भेद : मिश्र वाक्य

14. क्योंकि वह इंस्पेक्टर ईमानदार है इसलिए उसे पुरस्कार मिला।
वाक्य भेद :मिश्र वाक्य

15. धर्मतल्ले के मोड़ पर आकर जुलूस टूट गया।​
वाक्य भेद : सरल वाक्य


Related questions

निम्नलिखित वाक्यों को एकवचन रूप में परिवर्तित कर दोबारा लिखिए (क) कल मेरी सहेलियाँ आई थीं। (ख) नेतागण पधार रहे हैं। (ग) तुम मुझे दोहे सुनाओ। (घ) रास्ते में गहरे गड्ढे हैं। (ङ) ये वस्तुएँ ले आइए। (च) बच्चों ने प्रश्नों के उत्तर लिखे। (छ) बिल्लियाँ, कुत्तों से डर कर भाग गईं। (ज) थालियाँ यहाँ पर मत रखो। (झ) बच्चे खेल रहे हैं। (ञ) घोड़े तेज़ी से दौड़ रहे हैं।

दिए गए वाक्यों का वाच्य परिवर्तन करें। 1. माँ द्वारा परंपरा से हट कर सीख दी जा रही है । (कर्तृवाच्या) 2. आओ पेड़ की छाया में बैठें। (भाववाच्य) 3. मैंने तुम्हारी समस्याओं को लेखन का विषय बनाया है। (कर्मवाच्य)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *