दिए गए वाक्यों का वाच्य परिवर्तन करें। 1. माँ द्वारा परंपरा से हट कर सीख दी जा रही है । (कर्तृवाच्या) 2. आओ पेड़ की छाया में बैठें। (भाववाच्य) 3. मैंने तुम्हारी समस्याओं को लेखन का विषय बनाया है। (कर्मवाच्य)

दिए गए वाक्यों का परिवर्तन इस प्रकार होगा :

1. माँ द्वारा परंपरा से हट कर सीख दी जा रही है । (कर्तृवाच्य)

कर्तृवाच्य : माँ परंपरा से हट कर सीख दे रही है।

2. आओ पेड़ की छाया में बैठें। (भाववाच्य)

भाववाच्य : आओ पेड़ की छाया में बैठा जाये।

3. मैंने तुम्हारी समस्याओं को लेखन का विषय बनाया है। (कर्मवाच्य)​

कर्मवाच्य : मेरे द्वारा समस्याओं को लेखन का विषय बनाया गया है।

वाच्य क्या होते हैं?
वाच्य की परिभाषा :- क्रिया के उस परिवर्तन को वाच्य कहते हैं, जिसके द्वारा हमें इस बात का ज्ञान हो कि वाक्य में कर्ता, कर्म या भाव मे से किसकी प्रधानता है।

वाच्य के भेद –
1. कर्तृवाच्य : जिस वाक्य में कर्ता की प्रधानता का बोध होता है।
2. कर्मवाच्य : जिस वाक्य में कर्म की प्रधानता का बोध हो।
3. भाववाच्य : जिस वाक्य में क्रिया अथवा भाव की प्रधानता का बोध हो।


Related questions

‘आज आचार्य को सुन्दर भाषण देना पड़ा।’ इस वाक्य में कौन सा वाच्य है?

वाच्य पहचानकर लिखिए। 1. अर्जुन ने चिड़िया की आँख पर निशाना लगाया। 2. शिष्यों ने गुरुजनों के पैर छुए। 3. किसानों द्वारा फसल बोई गई। 4. राष्ट्रपति द्वारा उद्घाटन किया गया। 5. प्रधानाचार्य द्वारा पुरस्कार वितरित किए गए। 6. आज कक्षा में नया पाठ पढ़ाया गया। 7. नानी से अब कहानी सुनाई नहीं जाती। 8. वह जोर-जोर से हँसने लगा। 9. उससे कोई काम नहीं किया जाता। 10. वे हँसी-मज़ाक सहन नहीं करते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *