मूर्ति निर्माण में नगर पालिका को देर क्यों लगी होगी नेताजी का चश्मा पाठ के आधार पर बताइए? (अ) धन के अभाव के कारण (ब) मूर्तिकार ना मिलने के कारण (स) मूर्ति स्थापना के स्थान का निर्णय न कर पाने के कारण (द) संगमरमर ना मिलने के कारण

मूर्ति निर्माण में देर लगने का मुख्य कारण धन का अभाव था, इसलिए सही विकल्प होगा :

(अ) धन अभाव के कारण

 

स्पष्टीकरण :

‘नेताजी का चश्मा’ पाठ में जिस कस्बे का वर्णन किया गया है। उस कस्बे की नगर पालिका ने चौराहे पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की एक मूर्ति में लगवाने का निर्णय लिया था। नगर पालिका अक्सर कस्बे के विकास के लिए कुछ ना कुछ कार्य करती रहती थी। कभी सड़क बनवा दी तो कभी मूत्रालय बनवा दिए। कभी कबूतर की छतरी बनवा दी तो कभी कवि सम्मेलन करवा दिए। इसी क्रम में उसने शहर के मुख्य बाजार के मुख्य चौराहे पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा लगवाने का निर्णय लिया।

संगमरमर की प्रतिमा के बनाने का पूरी लागत अनुमानित लागत और उपलब्ध बजट से अधिक निकली, इसी कारण काफी समय तक वहां की स्थिति ऊहापोह रहेगी और औपचारिक कार्यवाही में भी काफी समय लगा। अंत में कस्बे के हाई स्कूल के इकलौते ड्राइंग मास्टर मोती लाल को मूर्ति बनाने का जिम्मा सौंपा गया क्योंकि मूर्ति बनाने के लिए अधिक बजट नहीं था।


Other questions

‘नेताजी का चश्मा’ कहानी के अनुसार देश के निर्माण मे बड़े ही नहीं बच्चे भी शामिल हैं। आप देश के नव निर्माण मे किस प्रकार योगदान देंगे?

‘नेताजी का चश्मा’ पाठ के आधार पर शासन-प्रशासन के कार्यालयों की कार्यशैली बारे में आपकी क्या धारणा बनती है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *