ओहदे को पीर की मजार कहने में क्या व्यंग्य है? ‘नमक के दारोगा’ पाठ के आधार पर उत्तर दीजिए।

‘ओहदे को पीर की मजार कहने में’ ये व्यंग्य निहित है कि ओहदा अर्थात पद ऐसा होना चाहिए, जहाँ पर अधिक से अधिक ऊपरी कमाई का रास्ता बने।

नमक का दरोगा’ पाठ में मुंशी जी अपने पुत्र दरोगा बंशीधर को समझाते हुए कहते हैं कि नौकरी ढूंढते समय ऐसा ओहदा अर्थात पद ढूंढना जहाँ पर ऊपरी कमाई की अधिक संभावना हो। पद बड़ा छोटा नहीं होता। पद की ओर ध्यान नहीं देना बल्कि इस बात का ध्यान देना कि वहाँ ऊपरी कमाई की कितनी अधिक संभावना है। इसलिए छोटा पद हो और वहां पर ऊपरी कमाई अधिक हो तो उसको भी स्वीकार कर लेना। यह बात भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी की प्रवृत्ति को बढ़ावा देने की ओर इंगित करती है। मुंशी जी अपने पुत्र बंशीधर को रिश्वतखोरी के लिए उकसा रहे हैं।


Other questions

पंडित अलोपदीन कौन थे? पंडित अलोपदीन की चारित्रिक विशेषताएं लिखिए। (नमक का दरोगा)

वंशीधर के पिता वंशीधर को कैसी नौकरी दिलाना चाहते थे?

न्यायालय से बाहर निकलते समय वंशीधर को कौन-सा खेदजनक विचित्र अनुभव हुआ?

Related Questions

Recent Questions

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here