‘समाज में हो रहे अपराधों के पीछे लोभ-वृत्ति भी एक कारण है।’ इस विषय पर अपने विचार लिखिए।

विचार/अभिमत

समाज में हो रहे अपराधों के पीछे लोभ-वृत्ति भी एक कारण है

 

समाज में हो रहे अपराधों के पीछे लोभ-वृत्ति भी एक मुख्य कारण है, इस बात में कोई भी संदेह नहीं है। हर अपराध के पीछे लोग वृत्ति ही छुपी हुई है। मनुष्य की लोभ वृत्ति ही उसे अपराध करने के लिए प्रेरित करती है। बिना लोभ के कोई भी अपराध नहीं करता। अधिकतर अपराध संज्ञान यानि जानकारी में किए जाते हैं और संज्ञान में किए गए अपराध लोभ वृत्ति के कार्य किए जाते हैं।

किसी को धन को पाने के लोभ होता है, किसी को सम्पत्ति पाने का लोभ होता है, किसी को पद पद या यश पाने का लोभ होता है, किसी को अन्य मनुष्य को पाने का लोभ होता है, जो कि प्रेमी या प्रेमिका के रूप में हो सकता है। हर अपराध के पीछे कोई न कोई लोभ ही छुपा होता है। कभी-कभी कोई अपराध अनजाने में किया जा सकता है और उसके पीछे शायद कोई लोभ वृत्ति नहीं होती हो, लेकिन अधिकतर अपराधों के पीछे लोभ वृत्ति ही मुख्य कारण होती है।

आज के समाज में मनुष्य पैसो के पीछे अंधाधुंध भाग रहा है। वह जीवन में विलासिता के हर साधन को एकत्रित कर लेना चाहता है। विलासिता और सुख की हर वस्तु को एकत्रित करने के लिए धन की आवश्यकता पड़ती है। सुख भरा जीवन जीने के लिए अथाह धन की आवश्यकता पड़ती है।

जिन मनुष्यों के पास धन नहीं होता और उन्हें वैध तरीके से धन कमाने का अवसर नहीं मिलता, या वह वैध तरीके से उतना धन नही कमा पाते जो उन्हें भोग-विलास के जीवन के लिए आवश्यक है, तो वे अपराध की ओर मुड़ जाते हैं। क्योंकि उन्हें जीवन में सुख-सुविधा चाहिए इसलिए उनके अंदर धन कमाने का नशा सवार हो जाता है। उनको धन के अलावा कुछ नहीं दिखता, इसके लिए उन्हें अपराध करना पड़े, वह उसके लिए भी तत्पर रहते हैं। मनुष्य का लोभ-लालच उसे अपराध करने की और धकेलता है, इसलिए समाज में बढ़ रहे अपराधों में लोग-वृत्ति भी एक बड़ा कारण होने के साथ-साथ सबसे प्रमुख कारण भी है।


Related questions

“स्वार्थ के लिए ही सब प्रीति करते है।” इस विषय पर अपने विचार लिखिए।

‘सरकारी अस्पतालों में निर्धन व्यक्ति की स्थिति’ विषय पर अपने विचार 25 से 30 शब्दों में लिखिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *