निज गौरव से कवि का क्या अभिप्राय है?

निज गौरव से कवि का अभिप्राय मनुष्य के स्वाभिमान से है। कवि मैथिलीशरण गुप्त मनुष्य को प्रेरणा देते हुए कहते हैं कि जीवन में संकट और संघर्ष की स्थिति आने पर भी मनुष्य को निराश नही होना चाहिए। उसे अपने स्वाभिमान का ध्यान रहना चाहिए। उसका ये स्भाभिमान ही मनुष्य को विपरीत परिस्थितियों में झुकने नही देगा।

कविता ‘नर हो न निराश करो मन को’ की पंक्तियों का भावार्थ इस प्रकार है…

निज गौरव का नित ज्ञान रहे, हम भी कुछ हैं यह ध्यान रहे।
सब जाये अभी, पर मान रहे, मरने पर गुंजित गान रहे।
कुछ हो, न तजो निज साधन को, नर हो, न निराश करो मन को।

भावार्थ : कवि कहते हैं कि मनुष्य को जीवन में संघर्ष करते हुए हमेशा अपने स्वाभिमान का ध्यान देना चाहिए। उसे हमेशा अपने स्वाभिमान का ज्ञान होना चाहिए। उसे यह पता होना चाहिए कि इस संसार में उसका भी अस्तित्व है, उसका भी महत्व है। यदि मनुष्य को स्वयं के स्वाभिमान स्वयं के अस्तित्व का एहसास होगा तो वह स्वयं को कभी भी कमजोर दीन हीन नहीं समझेगा और जीवन में आने वाले संघर्षों का दृढ़ता से मुकाबला कर सकेगा। भले ही संसार की सारी योग्य वस्तुएं अथवा सुख साधन नष्ट हो जाएं लेकिन मनुष्य का सम्मान बना रहे, जिससे इस संसार से जाने के बाद भी संसार में उसके कार्यों के, उसके यश के गीत गूंजते रहे। कुछ भी हो जाए अपने साधन, अपने स्वभाव को नहीं छोड़ना चाहिए अपने मन को निराश नहीं होने देना चाहिए।


Other questions

दिए गए काव्यांश को ध्यान पूर्वक पढ़िए एवं उस पर आधारित प्रश्न के उत्तर लिखिए। पॉयनि नूपुर मंजु बजैं, कटि किंकिनि कै धुनि की मधुराई। सॉवरे अंग लसै पट पीत, हिये हुलसै बनमाल सुहाई। माथे किरीट बडे दृग चंचल, मंद हँसी मुखचंद जुन्हाई। जै जग-मंदिर-दीपक सुंदर, श्री ब्रज दूलह देव सहाई।। प्रश्न-1 : श्रीकृष्ण को संसार रूपी मंदिर का दीपक क्यों कहा गया है? प्रश्न-2 : काव्यांश का भावार्थ लिखिए।

”कारतूस’ पाठ के संदर्भ में लेफ्टिनेंट को कैसे पता चला कि हिंदुस्तान में सभी अंग्रेजी शासन को नष्ट करने का निश्चय कर चुके हैं​?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *