महामाया कौन सा समास है?

महामाया : महान है जो माया

समास भेद : कर्मधारण्य समास

‘महामाया’ में ‘कर्मधारण्य समास’ होगा
स्पष्टीकरण

‘महामाया’ में ‘कर्मधारय समास’ इसलिए है क्योंकि जब महामाया समस्त पद का समास विग्रह करते हैं तो समास विग्रह में द्वितीय पद प्रधान होता है और प्रथम पद एक विशेषण की तरह कार्य कर रहा है, इसलिए यहां पर कर्मधारय समास होगा।

कर्मधारय समास में प्रथम पद विशेषण होता है और दूसरा पद विशेष्य होता है। इसमें सभी पद प्रधान होते हैं।

कर्मधारय समास की परिभाषा के अनुसार कर्मधारय समास में पहला पद एक विशेषण का कार्य करता है तथा दूसरा पद उसका विशेष्य होता है। कर्मधारय समास में पहला पद उपमान तथा दूसरा पद विशेष्य का कार्य करता है।

कर्मधारण्य समास के कुछ उदाहरण

विश्वव्यापी : विश्व में व्याप्त है जो
नीलांबर : नीला है जो अंबर
चरणकमल : चरण के समान कमल
कामधेनु : कामना पूरा करने वाली धेनु (गाय)

Related questions

पशु-प्रवृत्ति में कौन समास है?

‘श्वेताम्बर’ में कौन समास है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *