संघर्ष का मैदान छोड़ने वालों की कवि ने क्या समझाया है?​