“बाल कल्पना के से पाले” में कौन सा अलंकार है?

‘बाल कल्पना के से पाले’ में ‘उपमा अलंकार’ है।

काव्य पंक्ति : बाल कल्पना के से पाले

अलंकार भेद : उपमा अलंकार

स्पष्टीकरण

‘बाल कल्पना के से पाले’ में उपमा अलंकार’ इसलिए है क्योंकि यहां पर पाले की तुलना बाल कल्पना से की गई है। पाले को बाल कल्पना की उपमा दी गई है।

उपमा अलंकार में दो समान वस्तुओं की आपस में तुलना की जाती है। किसी एक व्यक्ति अथवा वस्तु की तुलना दूसरी किसी प्रसिद्ध व्यक्ति अथवा वस्तु से की जाए तथा दोनों वस्तुओं या व्यक्ति आदि में समानता का भाव दर्शाया जाए तो वहाँ पर उपमा अलंकार होता है।

उपमा अलंकार में दो भिन्न व्यक्ति अथवा वस्तुओं के गुणों, आकृति आदि में समानता का भाव दर्शाया जाता है। इसलिए इन पंक्तियों में उपमा अलंकार है।


Other questions

‘गरजा मर्कट काल समाना’ में कौन सा अलंकार है?

‘गा-गाकर बह रही निर्झरी, पाटल मूक खड़ा तट पर है’ पंक्ति में अलंकार है।

Related Questions

Recent Questions

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here