1. मानव मन की कमजोरी के क्या कारण हैं ? 2. ज्वालाएं किसके प्रतीक के रूप में हैं? 3. उत्तेजित मन कब शान्त होता हैं ? 4. कठिनाई के क्षण हमें क्या करना चाहिए ? 5. फूल व कांटे बोने से क्या आशय है ?

अगम चेतना की घाटी, कमजोर पड़ा मानव का मन,
ममता की शीतल छाया में, होता कटुता का स्वयं शमन।
ज्वालायें जब धुल-धुल जाती हैं, खुल खुल जाते हैं मुदे नयन,
होकर निर्मलता में प्रशांत, बहता प्राणों का क्षुब्घ पवन संकट।
संकट में यदि मुसका ना सको, भय से कातर हो मत रोओ,
यदि फूल नहीं बन सकते हो, कांटे कम से कम मत बोओ।

1.  मानव मन की कमजोरी के क्या कारण हैं ?

उत्तर : मानव मन की कमजोरी के मुख्य कारण चेतना का अभाव है।

2. ज्वालाएं किसके प्रतीक के रूप में हैं?
उत्तर : ज्वालाएं अज्ञानता के प्रतीक के रूप में हैं।

3.  उत्तेजित मन कब शान्त होता हैं ?
उत्तर : उत्तेजित मन तब शांत हो जाता है, जब उसे प्रेम-स्नेह की शीतल छाया में बैठने का अवसर प्राप्त होता है।

4. कठिनाई के क्षण हमें क्या करना चाहिए ?
उत्तर : कठिनाई के क्षण हमें भय से घबराना नही चाहिए और ना ही संकट के समय रोना चाहिए।

5.  फूल व कांटे बोने से क्या आशय है ?
उत्तर : फूल व कांटे बोने से आशय है कि फूल खुशी और प्रेम का प्रतीक है, कांटे दुख एवं कष्ट का प्रतीक हैं। किसी के जीवन में यदि फूल न बिखेर सको तो उसके जीवन में कांटे भी मत बोओ यानि किसी को खुशी न दे सको तो उसे किसी तरह का दुख भी न दो।

Other questions

“मकान के लिए नक्शा पसंद करना हमारी संस्कृति का परिचायक है।’ ऐसा इसलिए कहा गया है क्योंकि-(क) घर हमारी सभ्यता की पहचान है। (ख) अन्य लोगों से जोड़ने का माध्यम है। (ग) नक्शे के बिना मकान बनाना कठिन है। (घ) हमारी सोच-समझ को उजागर करता है।”

पायो जी मैंने नाम रतन धन पायो। वस्तु अमोलक दई म्हारे सतगुरू, किरपा कर अपनायो॥ जनम-जनम की पूँजी पाई, जग में सभी खोवायो। खरच न खूटै चोर न लूटै, दिन-दिन बढ़त सवायो।। सत की नाँव खेवटिया सतगुरू, भवसागर तर आयो। ‘मीरा’ के प्रभु गिरिधर नागर, हरख-हरख जस गायो॥ मीरा के इस पद का भावार्थ लिखिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *