नेहरू जी स्मारकों, गुफाओं तथा इमारतों की ओर आकर्षित होते थे। स्मारकों, गुफाओं तथा इमारतों के सहारे अपने देश का इतिहास जानने की कोशिश करते थे। कैसे? अपने विचार लिखिए।

नेहरू जी भारत के स्मारकों, गुफाओं तथा इमारतों की ओर आकर्षित होते थे। वह इन स्मारकों, गुफाओं तथा इमारतों के सहारे अपने देश का इतिहास जानने की कोशिश करते थे। उन्हें इन सभी इमारतों, गुफाओं और स्मारकों से अपने देश के इतिहास को बारीकी से जानने का अवसर मिलता था। नेहरू जी के अनुसार भारत के की सभी इमारतों का प्रत्येक पत्थर तथा भारत के अतीत ही सुंदर कहानी को कहता है। उन्हें इन सभी ऐतिहासिक स्मारकों, इमारतों और गुफाओं एव उनके अवशेषों तथा अन्य प्रतीक चिन्हों के माध्यम से भारत के इतिहास को बारीकी से जानने और समझने का अवसर मिलता था। इसीलिए वह भारत की प्राचीन इमारतों, गुफाओं और स्मारकों की ओर आकर्षित होते थे।

अपनी इसी तलाश में उन्होंने अजंता, एलोरा, एलिफेंटा की गुफाएं देखी तो दिल्ली और आगरा की इमारतों को भी काफी बारीकी से अध्ययन किया। भारत के अतीत में झांकने और उसे समझने के लिए इन सभी भारत के इन सभी ऐतिहासिक धरोहर का अवलोकन करना बहुत जरूरी था। इसी कारण नेहरू जी इन सभी ऐतिहासिक धरोहरों की ओर आकर्षित होते थे।

संदर्भ :
(‘भारत की खोज – तलाश’ – कक्षा – 8 पाठ – 2 तलाश)


Related questions

‘आपका पाला हुआ प्राणी लापता हो गया है।’ इस विषय पर अपने विचार लिखिए।

विश्व-नागरिक होने की भावना ही व्यक्ति के मन में सच्ची मानवता का संचार करती है। इस पर अपने विचार लिखिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *