बढ़ते हुए प्रदूषण पर क्या सावधानी की जाए। इस विषय पर माँ और बेटे के जो चर्चा हुई, उस पर संवाद लिखिए।

संवाद लेखन

प्रदूषण पर माँ-बेटे के बीच संवाद

 

माँ ⦂ (खिड़की बंद करते हुए) बेटा क्या तुम बता सकते हो यह जो बाहर दूर–दूर तक धुंध दिखाई दे रही है यह क्या है ?

बेटा ⦂ हाँ, यह धुंध ठंड के कारण पढ़ रही है।

माँ ⦂ बेटा यह सिर्फ सर्दी के कारण नहीं है बल्कि वातावरण में फैले इस प्रदूषण के कारण है।

बेटा ⦂ हाँ माँ हमारे चारों ओर प्रदूषण है, पानी में प्रदूषण, वायु में प्रदूषण कहीं आवाज़ का प्रदूषण, नदी नालों में प्रदूषण। हमारे चारों ओर प्रदूषण ही प्रदूषण है।

माँ ⦂ हाँ बेटा, तुमने बिल्कुल सच कहा पर क्या तुम जानते हो इसका क्या कारण है ?

बेटा ⦂ नहीं माँ, मैंने तो ऐसा कभी भी नहीं सोचा।

माँ ⦂ यह प्रदूषण कहीं ओर से नहीं आया है हमने ही इसे पैदा किया है।

बेटा ⦂ (बड़ी हैरानी से) वह कैसे माँ ?

माँ ⦂ हवा में प्रदूषण का कारण है जो कारखानों से निकलने वाला धुआँ हमारे वाहनों से निकलने वाला धुआँ और जब प्लास्टिक को जलाया जाता है तो उससे निकलने वाला धुआँ बहुत ही ज़हरीला होता है। आजकल लोगों को अधिकतर साँस की बीमारियाँ होने का कारण यही है।

बेटा ⦂ माँ जल प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण का क्या कारण है ?

माँ ⦂ बेटा जब हम अपने मवेशियों को नदियों में नहलाते हैं तो उस कारण भी जल प्रदूषण होता है, नदियों के किनारे कपड़े धोने और कारखानों से जो रसायन निकलता है उसे नदियों में निष्कासित कर दिया जाता है उसके कारण जल प्रदूषण होता है और इसके कारण हमें पेट की बीमारियाँ हो जाती है। ध्वनि प्रदूषण गाड़ियों के शोर से बड़े–बड़े लाउड स्पीकर लगाने से ध्वनि प्रदूषण होता है और इसके कारण हमें ऊंचा सुनने की बीमारी हो जाती है।

बेटा ⦂ हम ऐसा क्या कर सकते हैं जिस कारण प्रदूषण को होने से रोका जा सके ?

माँ ⦂ बेटा हमें ज़्यादा से ज़्यादा पेड़ लगाने चाहिए ताकि वायु प्रदूषण को कम किया जा सके | जल प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार को भी उचित कदम उठाने होंगे और हमें खुले मैं शौच जाना, नदियों में कूड़ा फेंकने और मवेशियों को नहलाना और कपड़े धोना आदि बंद करना होगा तभी जल प्रदूषण कम होगा ।  बिना वजह के हॉर्न ना बजे लाउड स्पीकर का इस्तेमाल कम से कम करें।

माँ ⦂ तो अब तुम क्या करोगे ?

बेटा ⦂ सबसे पहले तो मैं यह कोशिश करूंगा कि प्रदूषण करने से कैसे बचूँ और साथ ही साथ अपने दोस्तों को भी प्रदूषण ना करने के बारे में बताऊँगा और सब को प्रदूषण से होने वाले नुकसान के बारे में बताऊँगा।

माँ ⦂ शाबाश ! बेटा।


Related questions

परीक्षा की समाप्ति पर छुट्टियों के उपयोग के बारे में दो मित्रों का पारस्परिक संवाद लिखिए।

12वीं की परीक्षा की समाप्ति के बाद भविष्य में पढ़ाई के संबंध में पिता और पुत्र के बीच हुए संवाद को लिखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *