नई पीढ़ी के बच्चों में मोबाइल के प्रति बढ़ते आकर्षण के कारण के बारे में विस्तार से लिखिए।

हम और आप सभी जानते हैं कि मोबाइल की लत ने व्यक्ति को अपने अधीन कर लिया है। गैजेट हमारे उपयोग के लिए है, लेकिन यहाँ गैजेट्स हमारा उपयोग कर रहे हैं। व्यक्ति को मोबाइल की ऐसी लत है कि वह पास बैठे लोगों से बात करने के स्थान पर सोशल मीडिया पर मित्रों से लगा रहता है। इससे उसके अपनों से आपसी संबंध कमज़ोर होते चले जाते है। साथ ही व्यक्ति के जीवन की विभिन्न पहलुओं को भी यह लत प्रभावित करता है, जैसे स्वास्थ्य, आजीविका, अध्ययन आदि।
मोबाइल से सबसे बुरी तरह हमारी नई पीढ़ी प्रभावित हुई है। नई-पीढ़ी को मोबाइल ने जिस तरह आकर्षित किया है और इसके अनेक कारण है…
  • सोशल मीडिया : नई पीढ़ी का मोबाइल के प्रति आकर्षण की सबसे बड़ी वजह सोशल मीडिया है। सोशल मीडिया का लुभावना कंटेट नई पीढ़ी को अपनी तरफ खींच लाता है। सोशल मीडिया पर ऐसे कंटेंट की भरमार है जो नई पीढ़ी को अपनी तरफ आकर्षित करने में सफल रहा है।
  • नए-नए मित्र बनाने की चाहत : सोशल मीडिया के द्वारा नई पीढ़ी घर बैठे-बैठे अनेक तरह के अनजान लोगों से बात करने का मौका मिलता है और नई पीढ़ी का यही स्वभाव रहा है कि उसकी अधिक से अधिक नए दोस्त बनाने में रुचि होती है। इस कारण मोबाइल के प्रति उनका आकर्षण बढ़ा है।
  • सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर बनने की चाहत : सोशल मीडिया पर अलग-अलग प्लेटफार्म पर कंटेंट बनाने की होड़ और रील, शॉर्ट, वीडियो क्लिप आदि के द्वारा कंटेंट बनाकर खुद को लोगों के बीच में फेमस करना तथा सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर बनने के आकर्षण के कारण नई पीढ़ी मोबाइल की तरफ खिंची चली आ रही है क्योकि मोबाइल उनके लिए सोशल मीडिया पर प्रसिद्ध होने का सबसे उपयोगी टूल बनता है। इसी कारण नई पीढ़ी का सोशल मीडिया मोबाइल के प्रति आकर्षक बढ़ा है।
  • पैसा कमाने का आकर्षण : कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कंटेंट बनाकर पैसा कमाने का अवसर प्रदान करते हैं। इसी कारण भी नई पीढ़ी तेजी से सोशल मीडिया की तरफ आकर्षित हुई है और अनेक तरह का उपयोगी और लुभावना कंटेंट बनाकर पैसा कमाना चाहती है, मोबाइल उनके लिए इसमें सबसे उपयोगी औजार बना है।
  • मोबाइल गेम : वीडियो गेम के प्रति बच्चों और युवा टीवी का आकर्षण पहले भी था, अब मोबाइल पर एक से एक आकर्षक गेम हैं, इस कारण नई पीढ़ी मोबाइल पर गेम खेलकर अपना मनोरंजन करना चाहती है। धीरे-धीरे वह मोबाइल गेम की लत का शिकार हो जाती है।
  • एक वर्चुअल वर्ल्ड का निर्माण : नई पीढ़ी तकनीक के संसार में एक आभासी दुनिया में जीने लगी है। वह वास्तविक दुनिया से दूर होती जा रही है। वह अब खेल के मैदाने से दूर मोबाइल की स्क्रीन को ही अपना खेल का मैदान समझने लगी हैं। बच्चे अब नुक्कड़, गली-कूचों की जगह मोबाइल में स्थित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को भी अपना गली-कूचा नुक्कड़ समझने लगे हैं।
  • कामकाजी माता-पिता का अपने बच्चों को समय नहीं दे पाना : आज के कामकाजी माता-पिता अपने बच्चों को वह समय नहीं दे पा रहे जो पहले के माता-पिता देते थे। इससे बच्चे भी एक एकाकी जीवन में व्यतीत करने लगे हैं और वह अपना मोबाइल को अपना साथी बना लेते हैं। इस कारण भी मोबाइल उनकी जिंदगी में जरूरी हिस्सा बन जाता है।
  • माता-पिता द्वारा अपने बच्चों को हर तरह की सुविधा उपलब्ध कराना : पहले के माँ-बाप अपने बच्चों को सोच समझकर ही किसी तरह की सुविधा देते थे, लेकिन आजके माँ-बाप अच्छा पैसा कमाने लगे हैं। वह हर अपने बच्चों को हर तरह की सुख सुविधा उपलब्ध करा देते हैं। वह अपने बच्चों के हाथ में बेहद कम उम्र में ही मोबाइल थमा देते हैं, इससे बच्चे को मोबाइल की लत लग जाती है। यह भी एक बड़ा कारण है, जिसके कारण मोबाइल के प्रति बच्चों का आकर्षण बढ़ा है।
  • हर तरह के जानकारी का आसानी से उपलब्ध हो जाना :  सर्च इंजन द्वारा हर तरह की जानकारी चाहे वह वांछित जानकारी हो या अवांछित जानकारी पल भर में एक क्लिक पर मोबाइल स्क्रीन पर उपलब्ध हो जाने की सुविधा के कारण युवा पीढ़ी जानकारी को मोबाइल पर ही खोजने लगी है। वह किताबों में सर खपाने की जगह मोबाइल की स्क्रीन के माध्यम से सब कुछ जान लेना चाहती है। यह कारण भी है जिसके कारण बच्चों और युवाओ में मोबाइल के प्रति आकर्षण बढ़ा है।

Other questions

गठबंधन की राजनीति क्या है? गठबंधन की राजनीति के सकारात्मक एवं नकारात्मक प्रभाव क्या हैं? विस्तार से लिखिए।

भारतीय इतिहास में दूसरा परशुराम कौन थे?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *