‘वायु गुणवत्ता आयोग’ संसद मार्ग, नई दिल्ली को कुछ कारगर सुझाव देते हुए संबंधित अधिकारी को लगभग 120 शब्दों में पत्र लिखिए।​

औपचारिक पत्र

वायु गुणवत्ता आयोग के अधिकारी को पत्र

दिनाँक : 3 अप्रेल 2024

सेवा में,
श्रीमान मुख्य अधिकारी,
वायु गुणवत्ता आयोग,
संसद मार्ग,
नई दिल्ली – 110001

 

विषय : दिल्ली में वायु की खराब गुणवत्ता को सुधारने हेतु कुछ सुझाव

 

माननीय अधिकारी महोदय,

मैं आशीष चतुर्वेदी, दिल्ली शहर का जागरूक निवासी हूँ। हमारे दिल्ली शहर की वायु गुणवत्ता पिछले कुछ वर्षों से  बद से बदतर होती जा रही है। अपने शहर में बढ़ते जा रहे प्रदूषण के प्रति व्यक्ति चिंतित हूँ और चाहता हूं कि दिल्ली की वायु गुणवत्ता में सुधार हो और दिल्ली प्रदूषण मुक्त हो।

ये एक कटु सत्य है कि दिल्ली संसार के सबसे प्रदूषित शहरों में से एक शहर है। सरकारों द्वारा अनेक प्रयास करने के बावजूद दिल्ली के प्रदूषण स्तर में कोई कमी नहीं आई है। दिल्ली में बढ़ते जा रहे प्रदूषण के कारण दिल्ली निवासियों के स्वास्थ्य पर गहन संकट आन पड़ा है। दिल्ली में प्रदूषण का यही हाल रहा तो आने वाले समय में अपने बेहतर स्वास्थ्य के लिए बहुत से दिल्ली निवासी दिल्ली शहर से पलायन कर सकते हैं। हमें समय रहते ही दिल्ली में वायु गुणवत्ता को सुधारने के लिए कुछ सार्थक प्रयास करने होंगे।

मेरी तरफ से आपके विभाग के लिए कुछ सुझाव हैं। यदि आपको यह सुझाव उचित लगते हों तो आप इन सुझावों पर अमल कर सकते हैं…

  • सबसे पहले हमें दिल्ली में निजी वाहनों की संख्या बेहद कम करनी होगी और लोगों को निजी वाहनों के कम-से-कम उपयोग करने के लिए जागरूक करना होगा। उन्हें सार्वजनिक परिवहन साधन के प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करना होगा।
  • हालाँकि मेट्रों का पूरे शहर में दिल्ली में जाल बिछ गया है, और सार्वजनिक परिवहन के साधनों के उपयोग में मेट्रो का काफी लोकप्रिय भी है लेकिन हमें दिल्ली में सावर्जनिक परिवहन के अन्य साधनों को भी अधिक बढ़ाना होगा क्योंकि हर जगह मेट्रो की पहुँच संभव नही है। इससे मेट्रो पर निर्भरता और अत्याधिक दवाब कम होगा। जहाँ पर मेट्रों नही पहुँच सकती वहाँ पर जाने के लिए लोग निजी वाहनों का उपयोग करते हैं। ऐसे स्थानों पर पर्याप्त मात्रा में सार्वजनिक वाहन जैसे ई-रिक्शा, ऑटो रिक्शा आदि उपलब्ध होंगे तो लोग निजी वाहनों का प्रयोग कम करेंगे। इससे कम कार्बन उत्सर्जन होगा और वायु की गुणवत्ता में सुधार होगा।
  • आसपास के राज्यों में सर्दी के मौसम में पराली जलाने के कारण दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ जाता है। इस संबंध में आसपास के राज्यों से सहयोग संबंध स्थापित करके इस समस्या के समाधान के लिए सार्थक कदम बताने होंगे ताकि पराली से होने वाले प्रदूषण पर अंकुश लगाया जा सके।
  • दिल्ली शहर में सड़कों पर चलने वाले सभी पुराने वाहनों जो प्रदूषण के लिए जिम्मेदार हैं, उन्हें सड़कों पर से तुरंत हटाना होगा इसके लिए सख्त कार्रवाई करनी आवश्यक है ताकि ऐसे वाहन को दिल्ली की सड़कों पर से हमेशा के लिए हटाया जा सके।
  • ई-रिक्शा, साईकिल तथा कम प्रदूषण उत्पन्न करने वाले, पर्यावरण फ्रेंडली ईंधन से चलने वाले वाहनों को अधिक प्रोत्साहित करना होगा ताकि प्रदूषण कम से कम उत्पन्न हो।
  • आपके विभाग को वायु गुणवत्ता के सुधार के लिए आवश्यक है कि आप अन्य सरकारी विभागों से उचित समन्वय स्थापित करके शहर में अधिक से अधिक हरित क्षेत्र का विकास करें। शहर में अधिक से अधिक वृक्षारोपण हों। जिससे शहर की हरियाली बढ़ेगी जो प्रदूषण के स्तर कम करने में कारगर सिद्ध होगी।
  • वायु गुणवत्ता मानकों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों पर कठोर जुर्माना और दंड की व्यवस्था करनी होगी।
  • ऐसी सभी औद्योगिक इकाइयों पर अपशिष्ट पदार्थों के उत्सर्जन के मानक तय करने होंगे और उन पर कठोर नियंत्रण और निगरानी रखनी होगी।
  • आपके विभाग को ऊर्जा के ऐसे साधनों पर अत्यधिक जोर देना होगा जो प्रदूषण मुक्त होते हैं, जैसे विद्युत ऊर्जा, सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा आदि।
  • शहर में वायु गुणवत्ता के सुधार के लिए आपको एक कैंपेन चलाना भी आवश्यक है, जो भर के सभी नागरिकों को प्रदूषण के दुष्प्रभावों से सचेत करने के लिए शिक्षित और जागरुक करें और दैनिक जीवन में प्रदूषण उत्पन्न करने वाले कारकों से कैसे बचा जाए ये बताए।

आशा है कि आपको मेरे ये सुझाव ठीक लगे होंगे। यदि आपको ये सुझाव ठीक लगते हैं तो आप इन्हें अमल में ला सकते है। हम सभी शहर वासियों के मिले जुले सहयोग से हम अपने शहर की वायु गुणवत्ता में सुधार करके प्रदूषण मुक्त कर सकते हैं।

धन्यवाद,

एक जागरूक नागरिक,
आशीष चतुर्वेदी
अमन विहार, दिल्ली


Other questions

सरकारी चिकित्सालय में सुविधाएं के अभाव तथा कर्मचारियों के असंवेदनशील व्यवहार की शिकायत करते मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र लिखें।

पेयजल की समस्या हेतु स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *