इस गर्मी की छुट्टियों में आप योग कक्षाएँ ज्वाइन करने वाली हैं। इस पर अपने पिता जी की सलाह लेने हेतु उनके साथ एक संवाद करो।

संवाद लेखन

योग कक्षा पर पिता और पुत्री के बीच संवाद

 

पुत्री : पिता जी, मैं आपसे कुछ ज़रूरी बात करना चाहती हूँ। मैं एक सलाह लेना चाहती हूँ।

पिता : हाँ-हाँ! बोलो बेटा, किस बारे में सलाह चाहती हो।

पुत्री : पिता जी, हमारी गर्मी की छुट्टियाँ शुरू होने वाली है और मैं चाहती हूँ कि मैं इन छुट्टियों का सदुपयोग करूँ।

पिता : (पुत्री की तरफ खुशी से देखते हुए ) बिल्कुल सही कहा बेटा, समय का सदुपयोग करना चाहिए। क्या तुमने कुछ सोचा है कि तुम्हें क्या करना है?

पुत्री : जी पिता जी, मैंने सोचा है कि मैं योग कक्षाएँ ज्वाइन कर लेती हूँ।

पिता : (हैरानी से) योग कक्षाएँ! वो क्यूँ?

पुत्री : पिता जी, आजकल गर्मी बहुत हो रही है। ऐसे में लोग घरों से बाहर नहीं जा पाते है। शारीरिक गतिविधियाँ कम हो जाती हैं और बैठे-बैठे कई तरह की बीमारियाँ लग जाती हैं। अगर इन बीमारियों से अपने-आप को बचना है तो योग से बढ़कर कुछ भी नहीं है।

पिता : (चिंता करते हुए) सही कहा तुमने, लेकिन मैं तुम्हारी इस बात से पूरी तरह से सहमत हूँ। पर तुम यह सब करोगी कैसे? इतनी गर्मी में बाहर कैसे जाओगी?

पुत्री : (समझाते हुए) पिताजी आप चिंतित न हों, क्यूंकि मुझे कहीं भी बाहर जाने की ज़रूरत नहीं है। क्यूंकि मैं ऑनलाइन (online) क्लास लूँगी। मेरी सेहत के लिए भी अच्छा है।

पिता : ठीक बेटा, तुमने बहुत अच्छा सोचा है। कब से ज्वाइन करने वाली हो योग कक्षाएं?

पुत्री : पिताजी, मैं आज शाम को फार्म भर दूंगी और कल से ही क्लास ज्वाइन कर लूंगी।

पिता : ठीक है बेटा।


Related question

दिल्ली की मेट्रो ट्रेन के चलते हुए सुविधा हुई । इस विषय पर आशिष और सपना के बीच बातचीत में संवाद लेखन लिखें।

आप उदयपुर घूमने जा रहे हैं, इसलिए रेलगाड़ी का टिकट ख़रीदते समय आपके और रेलवे कर्मचारी के मध्य जो वार्तालाप हुआ उसे संवाद-शैली में लिखिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *